Tuesday, 24 February 2015

पेलां हा तख्त ताज आज टोपियां घणी

पेलां हा तख्त ताज आज टोपियां घणी ।
थें हो प्रजा ये राज झूंठ कह  दियो  कणी ।
दुष्टां भरोसे मातभोम नी है राखणी ।
देश है थारों रे थें हो देश रा धणी ।।      

शताब्दियां तलक रा बलीदान सूं बण्यो ।
मिनखां रा लोहि मांडणा सूं आंगणो रच्यो । अणगिणतरा  हमला सह्या ने जंग झेलिया । चंगेज अर अंग्रेज जस्या सेंकडों सह्या ।
अबे तो मात भारती ने शान्ति साजणी ।
देश हैं थांरो रे थें हो देश रा धणी ।। 

मां भारती री रक्षा निज हाथ  सूं सरे ।
पाडोसी मुक्ख जोवणो तो पार नी पडे । देशद्रोहि देश मे जो निजर मे चढे ।
सपूत वो कपूत रै जो जूत री जडे ।
दधीचि वाली रीत ने पाछी निभावणी ।
देश है थारों रे थें हो देश रा धणी ।।      

थें टाबरां ने शूरवीरता री सीख दो ।
कायर पणा री ठोड ओज तेज सींच दो ।
भारत मे अभिमन्यु भरत फैर निपज जा । आतंक दुष्ट दैत्य सूं नरनार जूंझ जा ।
भावी पिढी ने देश री रखवाल बणाणी ।
देश हैं थारों रे थें हो देश रा धणी । ।          

मोठ्यार पण रा काम कोइ रोल तो नही ।
थांरी उमर या पायलां रिमझोल तो नही । सिणगार रा गीतडा ने कांइ गावणा ।
हास्य व्यंग रा किस्सा किनै सुणावणा ।
इतिहास रा आखर बणा  या लगन लागणी । देश है थांरो रे थें हो देश रा धणी ।।

गेलसपी स्कॉर्पियो मारी ही है

एक जोधपुरी सिगरेट पी रहा था
तभी एक खुबसूरत लड़की वहा आती है व उससे कहती है :
लड़की : आप कितने सालों से पी रहे हो
मारवाड़ी : 8 सालो से
लड़की : अगर आप इतने पैसे बचाते तो वो सामने स्कॉर्पियो है वो आपकी होती
मारवाड़ी : आप सिगरेट पीती हो
लड़की :नही
मारवाड़ी : तो आपके पास स्कॉर्पियो है
लड़की : नही
मारवाड़ी : तो थु थारो काम कर गेलसपी स्कॉर्पियो मारी ही हैं

मेरा शहर अब बदल चला है….

मेरा जोधपुर अब बदल चला है
**********************
कुछ अजीब सा माहौल हो चला है,
मेरा शहर अब बदल चला है….

ढूंढता हूँ उन परिंदों को, जो बैठते थे कभी घरों के छज्ज़ो पर
शोर शराबे से आशियाना
अब उनका उजड़ चला है,
मेरा जोधपुर अब बदल चला है…..

होती थी सायकलों की सवारी
मंज़िल तो वही है
मुसाफिर अब बाइक्स व कारों में चढ़ चला है
मेरा जोधपुर अब बदल चला है…

मिर्ची बड़ा,समोसा, कचौरी
खाते थे कभी हम
स्कूल कॉलेजो के प्रांगण में,
अब तो बस बेक समोसा, पेस्ट्री और क्रीम रोल का दौर चला है
मेरा जोधपुर अब बदल चला है

शहर के मोहल्ले  मे रुक कर बतियाते थे दोस्त घंटों तक
अब तो बस शादी, पार्टी या
उठावने पर मिलने का ही दौर चला है
मेरा जोधपुर अब बदल चला है….

वो टेलीफोन का काला चोगा उठाकर खैर-ख़बर पूछते थे,
अब तो स्मार्टफोन से फेसबुक, व्हाटसऐप और ट्वीटर का रोग चला है
मेरा जोधपुर अब बदल चला है….

वो साइकिल पर बैठकर, दूर की डबल सवारी,
कभी होती उसकी, कभी हमारी बारी,
अब तो बस फर्राटेदार बाइक का फैशन चला है
मेरा जोधपुर अब बदल चला है….

जाते थे कभी ट्यूशन पढ़ने सर के वहाँ,
बैठ जाते थे क्लास मे कहीँ पर भी पाँव पसार कर ,
अब तो बस कोचिंग क्लासेस का धंधा चल पड़ा है,
मेरा जोधपुर अब बदल चला है…..

खो-खो, सितोलिया, क्रिकेट, गुल्लिडंडा, डिब्बा-डाउन खेलते थे गलियों और मोहल्लों में कभी,
अब तो न वो गलियाँ रही, न मोहल्ले न वो खेल, सिर्फ और सिर्फ कम्प्यूटर गेम्स का दौर चला है,
मेरा जोधपुर अब बदल चला हैं…..

रेडियो में अल-सुबह तक चलते क्लासिकल गाने-बजाने के सिलसिले
अब तो एफएम और डीजे का वायरल चल पड़ा है,
मेरा जोधपुर अब बदल चला है….

गर्ल्स काॅलेज की लड़कियों से बात करना तो दूर नज़रें मिलाना भी मुश्किल था
अब तो बेझिझक हाय ड्यूड,
हाय बेब्स का रिवाज़ चल पड़ा है
मेरा जोधपुर अब बदल चला है….

घर में तीन भाइयों में होती थी एकाध साइकिल पिताजी के पास स्कूटर,
अब तो हर घर में कारों और बाइक्स का काफ़िला चल पड़ा है
मेरा जोधपुर अब बदल चला है….

खाते थे समोसे, कचोरी, जलेबी, गराडू, गरमा-गरम पोहे चौराहो पर,
अब वहाँ भी चाउमिन, नुडल्स,
मन्चूरियन का स्वाद चला हैं
मेरा जोधपुर अब बदल चला है….

कोई बात नहीं;
सब बदले लेकिन मेरे शहर के
खुश्बू में रिश्तों की गर्मजोशी बरकरार रहे
आओ सहेज लें यादों को
वक़्त रेत की तरह सरक रहा है…
मेरा जोधपुर अब बदल चला हैैं…

मेरा जोधपुर अब बदल चला है...

राबड़ी receipy

मारवाङी लगावण में आपका स्वागत है ..
                 *राबङी*

आज हम आपको सिखायेंगे छाछ की राबड़ी---

सामग्री - एक लीटर छाछ
बाजरा कूटा हुआ - 100 ग्राम ,
कोरी हांडी - 1,
नाल्डी/ चाटू /टोकसी- 1,
घोटणी - 1,
लूण आवश्यकता अनुसार..
विधि :---
सर्व प्रथम
कोरी हांडी लीजिये,
हांडी ले कर अपने गाँव में
घर घर डोलिए,
जिस किसी के घर छाछ
बनी हो, 1 लीटर
छाछ मांग कर लाइए,
अब घर आ कर 100
ग्राम बाजरा लेकर
ऊखली में मूसल
की सहायता से मोटी-
मोटी कूटिए..
हांडी को चूल्हे पर
चढ़ा दीजिये व
कूटा हुआ बाजरा छाछ में
डाल दीजिये..
धीमा धीमा बास्ते जगाते
रहिये और घोटणी से
कूटा बाजरा मिश्रित छाछ
को हिलाते रहिये..
लूण अपने स्वादानुसार
साथ में ही डाल
सकते हैं, ध्यान रहे बास्ते जोरगी मत जगाइए इससे राबड़ी के हांडी में लागने
की गुन्जाईस रहती है...
जब छाछ उफान लेने लग
जाए तो 2-3
उफान दिराकर
हांडी को उतार कर
अराही पर रख दीजिये.
नाल्डी की सहायता से
गर्मागर्म
राबड़ी अपने
मेहमानों को घाल दीजिये
और आप भी थाली ले कर
राबड़ी सबड़किये .....
हो सके तो फटाफट
राबड़ी को सलटा दीजिये..
बच जावे तो सुबह सुबह कलेवे में
खा लिजिये !
नोट : बच्चो को गर्म
हांडी से दूर रखिये
उन्हें प्यार से समझा कर
दूर कीजिये,
फिर भी ना माने तो जट पकड़
कर २-३- लाफे में धर दीजिये..

हमारा उद्देश्य :
राबड़ी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर
पहचान दिलवाना है
सो इसे शेयर जरूर
करें.

Monday, 23 February 2015

रंग बदळ किरकांटया होग्या

रंग बदळ किरकांटया होग्या,

नीत बदल मन मेला होग्या
,
मिनखीचारो मरतो दीखे, पईसां लारे गेला होग्या।

घर सुं भाग गुरुजी बणग्या, चोर उचक्का चेला होग्या,

चंदो खार कार में घुमे, भगत मोकळा भेळा होग्या।

कम्प्यूटर को आयो जमानो, पढ़ लिख ढ़ोलीघोड़ा होग्या,

पढ़ी-लिखी लुगायां ल्याया काम करण रा फोड़ा होग्या।

जवानी में बूढ़ा होग्या सांस फूलगी घायल होग्या,

घर-घर गाड़ी-घोड़ा होग्या, जेब-जेब मोबाईल होग्या।

छोरयां तो हूंती आई पण आज पराया छोरा होग्या,

राल्यां तो उघड़बा लागी, न्यारा-न्यारा डोरा होग्या।

इतिहासां में गयो घूंघटो, पोडर पुतिया मूंडा होग्या,

झरोखां री जाल्यां टूटी, म्हेल पुराणां टूंढ़ा होग्या।

भारी-भारी बस्ता होग्या, टाबर टींगर हळका होग्या,

मोठ बाजरी ने कुछ पूछे, पतळा-पतळा फलका होग्या।

रूंख भाडकर ठूंठ लेयग्या जंगळ सब मैदान होयग्या,

नाडी नदियां री छाती पर बंगला आलीशान होयग्या।

मायड़भाषा ने भूल गया, अंगरेजी का दास होयग्या,

टांग कका की आवे कोनी ऐमे बी.ए. पास होयग्या।

सत संगत व्यापार होयग्यो, बिकाऊ भगवान होयग्या,

भगवा भेष ब्याज रो धंधो, धरम बेच धनवान होयग्या।

ओल्ड बोल्ड मां बाप होयग्या, सासु सुसरा चौखा होग्या,

सेवा रा सपनां देख्या पण आंख खुली तो धोखा होग्या।

बिना मूँछ रा मरद होयग्या, लुगायां रा राज होयग्या,

दूध बेचकर दारू ल्यावे, बरबादी रा साज होयग्या।

तीजे दिन तलाक होयग्यों, लाडो लाडी न्यारा होग्या,

कांकण डोरां खुलियां पेली परण्या बींद कंवारा होग्या।

बिना रूत रा बेंगण होग्या, सियाळा में आम्बा होग्या,

इंजेक्शन सूं गोळ टमाटर फूल-फूल कर लाम्बा होग्या।

कविता म्हारी फिरे कंवारी तुकबंदी का फेरा होग्या,

दिवलो करे उजास जगत में खुद रे तळे अंधेरा होग्या।

मन मरजी रा भाव होयग्या, पंसेरी रा पाव होयग्या,

महंगाई री मार तिवाड़ी, जीणां दोरा आज होयग्या।

जय राजस्थान

Sunday, 22 February 2015

Oxford इंग्लिश to Rajasthani भाषा ‬ dictionary


Let him go आगों बलण दे
Fast - बेगो
Smooth - चिकणी
Ladies - लुगायाँ
Yes - होय
Slapping - रेपाटो
Punching- घुंसो
Wife - घरआळी
Come here-अठी आ
Same to same-असो को असो
Clothes-गाबा
Sunlight -तावड़ो
morning-दिनऊंगा
Very-घणो
Basket-थैलो
Bed- माचो
Key-कुंची
Pot-लोटों
Pate-आङो
Mother-बाई
Mouth-मुंडो
Face-थोबडो़
Neck-गुद्दी
Knee-गोडा
Animal-ढांढा
Cat-मिन्की
Ox-बलद
Rat-उन्दरो
Monkey-बान्दरौ
Mango-आम्बोo
Sugarcane-सांठो
Confused - डापाचुक
Complaint-औलबो
Chain-सांळल
Children-टाबरीया

आप कैसे पता करेंगें कि आप राजस्थान के किस कोने में है।

1) दो आदमी लड़ रहे हैं, एक आदमी आता है,उन्हे देखता है और चला जाताहै...
ये जयपुर है।
2) दो आदमी लड़ रहे हैं, एक आदमी आता है, उन्हें समझाने की कोशिश करता है, फलस्वरुप दोनो लड़ना छोड़ कर समझाने वाले को मारने लग जाते हैं...
ये झुंझुनू है।
3) दो आदमी लड़ रहे हैं, एक आदमी अपने घर से आवाज़ देता है, "मेरे घर के आगे मत लड़ो, कहीं और जाओ"....
ये सीकर है।
4) दो आदमी लड़ रहे हैं, पूरी भीड़ देखने के लिये इकट्ठी हो जाये, और एक आदमी चाय की दुकान लगा दे....
तो ये चुरू है।
5) दो आदमी लड़ रहे हैं, दोनो मोबाईल से कॉल कर दोस्तो को बुलाते हैं, थोड़ी देर में 50आदमी लड़ रहे हैं. ..
ये कोटा है।
6) दो आदमी लड़ रहे हैं, एक आदमी ढेर सारी बीयर ले आता है, तीनो एक साथ बीयर पीते हुए एक-दूसरे को गाली देते हैं..
ये गंगानगर है।
7) दो आदमी लड़ रहे हैं, दो आदमी और आते हैं, वो आपस में बहस करने लगते हैं कि कौन सही है कौन गलत, देखते देखते भीड़ जमा हो जाती है, पूरी भीड़ बहस करती है, लड़ने वाले दोनो खिसक लेते हैं...
ये बीकानेर है।
8) दो आदमी लड़ रहे है, एक आदमी आता है, गन निकालता है और ढिचकांव. और सब शांत हो जाता है...
यानि कि आप धौलपुर पहुँच गए हैं।
9)दो आदमी लड़ते हे भीड़ इक्कठी हो जाती हे ।
थोड़ी देर में मामला शांत ।
दोनों एक दूसरे को  प्यार से देखते हे और एक बोलता हे रजनीगंधा तुलसी हे कई थारे खने ।
और मारो प्यारो जोधाणो हे

Friday, 20 February 2015

बन्ना की सगाई

एक गांव मे राजपूता क बन्ना की सगाई कर र ब्याव माण्ड दियो।
सामला सगा न शर्त रखी क बारात म सारा राजपूत ही होणा चाहिए।दुजी जात को कोई भी नहीं होणो चाहिए।
गांव म एक घर छोड़ र सब गुर्जर हा।
छोरा को बाप बोल्यो सब न राजपूत बण र बारात म चालण ह
सब साफा बांदो और अपने नाम के आगे सिंह लगा ल्यो।
सगो ए बाता और पूछ सके ह सब रट ल्यो----
कस्या राजपूत हो तो कह दिज्यो राठौर।
राठौर म कुण सा हो तो कह दिज्यो मेड़तिया ।
सब रट रटा र तैयार होगा।
बारात चढ र आगला की ढोढी पर चलेगी।
शाम को सब बाजोट पर मनुहार करने बैठ्या। गुर्जर तो गुर्जर ही हा सब बोतला लेर न्यारी न्यारी ढाणियाँ बणार पीबा लाग ग्या।
सामला डाकरा न शक हुयो क दाल पुरी काली लागह।
बे एक गुर्जर क कनै जाएर पूछया
आपको नाम काई हुसी सा?
फता सिंह।
कुण सा राजपूत हो सा?
राठौर।
राठौर म कुण सा?
मेड़तिया ।
थाका बाप को काई नाम सा?
पदमलो गुर्जर।

Wednesday, 18 February 2015

मै फंस ग्यो खड़ा खाणा में

आजकल एक रिती रिवाज से शादियों मै खड़े होकर खाना खाने का सिस्टम होता है
जो कि सांइस से और हमारे समाज के नज़रिये से बहुत ग़लत है :-इस बात को घ्यान मै रखते हुये एक मारवाड़ी कविता लिखी है :--

"मै फंस ग्यो खड़ा खाणा मे
मने बात समज में नी आवे
गाजर टमाटर गोभी काचा खावे
हाथ मे प्लेट लेने लैण लगावे...
काऊन्टर सु काऊन्टर पर जावे
ज्यूँ मंगतो फिरे दाणा ने
मै फस ग्यो खड़ा खाणा मे ।

बाजोट पोतीया जिमण थाल
ईण सगलो रो पड ग्यो काल
ऊबा ऊबा ही खाई रिया माल
देश री गदेडी और पूरब री चाल
पेली जेड़ो मिठास कटे खाणा मे
मै फस ग्यो खड़ा खाणा मे ।

एक हाथ मे प्लेट लिरावो
साग मिठाई भैलाई खावौ
भीड मे लोगो रा धक्का खावो
घूमता फिरता भोजन पावो
ज्यूँ बलद फिरे घाणा मे
मै फस ग्यो खड़ा खाणा मे ।

सगला व्यंजन लावणा दोरा
ले भी आवो तो संभालना दोरा
भीड भाड में बचावणा भी दोरा
ढुल जावेला रुखालना दोरा
मै डाफाचुक हो गयो जोधाणा मे
मै फंस ग्यो खड़ा खाणा मे ।

आर्केस्टरा वाला नाचे गावे
बिन्द बिन्दणी हँसता जावे
घर वाला लिफावा लिरावे
सगलाँ रो ध्यान है गाणा मे
मै फस ग्यो खड़ा खाणा मे

बुढा बढेरा किकर खावे
सामे बिन्द बिन्दनी सगला रे सामे हाथ मिलावे
विकलांगो ने कुण जिमावे
टाबर टींगर भूखा ही जावे
कोई बेठा ने कोई ऊबा ही खावे
ईण लोगो ने कुण समझावे
देखा देखी होड लगावे
सब लागा है आणा जाणा मे
मै फस ग्यो खड़ा खाणा मे ।

Sunday, 15 February 2015

वैलेंटाइन डे री पाती

म्हारी व्हाली धापूड़ी
थाने ठा कोनी आज रो दिन आपा रे वास्ते खास है ।
आज वेलेंटाइट रो दिन है ।
आज खेतर जावते समय मने तलाव री पाल माथे मिलजे ।
थारा वास्ते मैं रूयडा रो फूल लायो हु ।
नाश्ता रे वास्ते खिसिया ने मोली छाछ भी ले ने आवुला ।
थारा वास्ते मैं आंगलिया सु चालण वालो मोबाइल लायो हु ।
आज जल्दी नावणिया धोवणिया कर ने जल्दी आवजे ।
गुलाबी फूल वाली घाघरी ने केसरी चुनड़ी ओढ़ ने आवजे ।
पगा में तोडा
कमर में कनदोरो
हाथो में बंगड़िया
आँखों में काजल
कानो में जुमका
नाक में नथ
करम में टीको
बालो में बकल
जरूर लगावजे।
आवति आखातीज रो आपा ब्याव जरूर करोला ।
गांव वाला ने ध्यान कोनी पडनो जोइये ।
थारी सखी पेपलि ने आज संगाथे मतिना लावजे ।
आज मारे पण खेतर में रायडा में पाणी देणो हतो पण ओ दाड़ो रोजीना कोनी आवे तो छूटो पाणी अरंडा में ठोक ने थारी वाट जोवुला ।
आज हड़ूमान जी रो दिन भी है तो थाने मिलण रे बाद गोलासन भी जावणो है ।
मैं मानता राखी हती के जो तू आज मने मिलण रे वास्ते आवेला तो मैं आपरा दर्शन करण जरूर आवुला ।
जमोने आपरा ब्याव रे बाद आपा चारो तीर्थ करने जावोला ।
गोलासन
मोंगलोर
होथीगांव
ढबावली
ओ चार मोटा तीर्थ है ।
मारी मोटी इच्छा है थने ओ तीर्थ करावण री ।
हवे दूजी वात मिलण रे बाद करसा ।
थारो प्यारो
गोकलियो ।

Tuesday, 3 February 2015

फागण आई रे

www.saleunlimited.blogspot.in

१.सज फागण आयो हे सखी,
हळकी ठंड हमें!
मद पद हद रे मांय,भोगी कठै भमें!!
२.कस तंग करियेह,पुठी धर पलोण,कामण झूरके कंत ने
तरबंन्ध मोहर तोण!!
३.बाट जोवूं वाल्लाह,नैण मारग निहार!
मन दिपे दीपावळी,तन (ज्यों) तीज-त्यौहार.
४.पीव मिळ्यो पौ-बारेह, नैणों होत निरोंत!
मन मुग्ध मुस्काय कर,
तन मन एक ही भोंत!!
       फाल्गुनी बयार की दस्तक सन्निकट है, कामिनी की काम-कनखियों से  विरह-दामिनी की दमक. मिलनोत्कंठा में उष्ट्रारुढ होकर पीव-प्रस्थान करते है,प्रिया-प्रदेश को...इत्यादि-इत्यादि.