Sunday, 23 August 2015

कंचन वरणी कामणी  चढ चौबारैे चाप

कंचन वरणी कामणी  चढ चौबारैे चाप
मतो करे कूदो मनां परा कटैला पाप
परा कटेला पाप जीवां मु्कत हो जासी
आसी ईसर आप जीव बैकुंठ ले जासी
आतम रूप अधार  परमातम पहचाण व्है
सिरै न जीवण सार  विरथा ही बरबाद व्है

No comments:

Post a Comment