Wednesday, 12 August 2015

जिवंता है

दो लूगाई आपस मै बात कर रही थी 

एक जनी बोली डावङी मारा पती दैवता है।

दूसरी बोली डावङी थारा भाग जोरका है
म्हारा पती तो हाल ही जिवंता है

No comments:

Post a Comment