Sunday, 23 August 2015

कुंडलिया छंद             

कुंडलिया छंद                        
      मनमौजी  इक सोडषी, मन मैं करत विचार।
नेह बिना नह निभत है, बिरथ सकल संसार।।
बिरथ सकल संसार, जगत पिव बिन सब सूनो,
नेह नवल संसार में, शेंषही सब जूनो।।
पिव बिन जगत असार, धरम पौथी  सब खौजी।
जीवन अब बेकार, मरण  तत्पर मनमौजी ।।

No comments:

Post a Comment